गुरुवार, 15 नवंबर 2012

मलाला - मलाल माफ़ी




मलाला 
की 
हत्या की कोशिश करने वाला 
शख्श 
मलाल करता होगा 
इतनी प्यारी बिटिया को 
गोली दाग तो दी 
पर
वो निर्दयी भी 
दिन रात दिल में सोचता  होगा
या अल्लाह 
ये 
मैंने क्या कर डाला ?

खुदा से  दिन-रात
दुआ करता होगा 
मुझे माफ़ कर दे मलाला 

किशोर कुमार पाहुजा 
उदयपुर (राजस्थान) 
    

1 टिप्पणी:

Divya Prakash Srivastava ने कहा…

जिनसे बड़े बड़े देशों की ताकतवर फौज नहीं लड़ पायी, उसे १४ साल की बच्ची ने धुल चटा दी. आतंकवाद का अंत बंदूकें नहीं कर सकती.
जिस दिन हर हाथ में कलम आ जाएगी उसी दिन दुनिया से आतंकवाद ख़त्म हो जायेगा.
मलाला की फैलाई हुयी जन चेतना, इंशाल्लाह जल्दी इस धरती को फिर से जन्नत बना देगी.