मंगलवार, 20 अगस्त 2013

रूपया

अब तक सुनते थे 
आदमी गिर जाता है 
रुपये 
को पाने के लिए 
लेकिन 
अब तो 
रूपया 
भी गिरता जा रहा है 
बेचारा आदमी क्या करेगा 
करेगा क्या 
आदमी और गिर जायेगा 
और 
रूपया 
पाने के लिए 

2 टिप्‍पणियां:

Hansraj Sarnot ने कहा…

लाजवाब सर

Hansraj Sarnot ने कहा…

बहुत उम्दा कटाक्ष लिखा सर